Friday, November 16, 2018

योग की परिभाषाये एवं स्वरुप ( Definition of Yoga )


योग की परिभाषाये एवं स्वरुप



योग शब्द 'युज' धातु से बना है जिसका अर्थ जोड़ना अर्थात जो युक्त करे मिलावे उसे योग कहते है। इस सम्बन्ध में योग सूत्र के रचनाकार महर्षि पतंजलि ने 'योग समाधी' कहकर योग को समाधी के रूप में परिभाषित किया है अर्थात कामना, वासना, आसक्ति, संस्कार, आदि सब प्रकार की आगंतुक मलिनता को दूर कर स्वरुप में प्रतिष्ठित होना - जीव का ब्रह्म होना -समाधी है । 

विभिन्न आचार्यो ने भिन्न भिन्न साधनो द्वारा इस लक्ष्य अर्थात-'समाधी' की स्थिति को प्राप्त किया है। वेद विश्व के सबसे प्राचीन ग्रन्थ है । ये मंत्रद्रष्टा ऋषियों के अंतर्ज्ञान के आत्मसाक्षात्कार के प्रमाण है । वेद के प्रत्येक विभाग में योग को किसी न किसी रूप में मान्यता मिली है ।
वेद के तीन काण्ड है-
१. कर्मकाण्ड २. ज्ञानकाण्ड ३. उपासनाकाण्ड

१. कर्मकाण्ड के अनुसार -योग: कर्मसुकौशलम अर्थात कर्मो में कुशलता है योग है ।
२. ज्ञानकाण्ड के अनुसार - संयोगो योग इत्युक्तो जिवात्मपरमात्मनो: अर्थात जीवात्मा -परमात्मा का संयोग -एकीकरण योग है ।
३. उपसनाकाण्ड काण्ड के अनुसार - योग चित्त वृत्ति निरोधा: अर्थात चित के वृत्तिओं का निरोध ही योग है ।
४. योगतत्त्वोपनिषद के अनुसार - मोक्ष प्राप्ति के लिए ज्ञान तथा योग दोनों आवश्यक है ।

              योगहीनं कथं ज्ञानं मोक्षो वा भवति ध्रुवम।
              योगोपी ज्ञानहीनस्तु न क्षमो मोक्षकारमणी

योग के बिना ज्ञान या ध्रुव मोक्ष भला कैसे हो सकता है ? उसी प्रकार ज्ञानहीन योग bhi मोक्षकर्म में असमर्थ है ।

क. 'समत्वं योग उच्यते' अर्थात सुख दुःख आदि के बीच चित या मन का समान बने रहना, 
ख. तत्रोपरमते चितं निरुद्ध योगसेवया अर्थात चित की स्थिरता
ग. 'पश्य में योगमेश्वरम अर्थात संयमन सामर्थ प्रभाव।

योगवासिष्ठ जो आध्यात्मिक ग्रंथो में उच्य कोटि का ग्रन्थ है में संसार सागर से पार होने की युक्ति को ही योग कहा गया है । इसमें योग की तीन विधियां बताई गयी है .
१. एक तत्व की दृढ़ भावना, 
२. मन की शांति और 
३. प्राणों के स्पंदन का निरोध ।

इन तीनो में किसी एक के सिद्धि होने पर तीनों सिद्ध हो जाते है । 

Yoga and Meditation for stress managment in daily life among students..


Yoga is a mind-body practice that combines physical poses, controlled breathing, and meditation or relaxation. Yoga may help reduce stress, lower blood pressure and lower your heart rate. And almost anyone can do it.



The practice of yoga involves stretching the body and forming different poses, while keeping breathing slow and controlled. The body becomes relaxed and energized at the same time. There are various styles of yoga, some moving through the poses more quickly, almost like an aerobic workout, and other styles relaxing deeply into each pose. Some have a more spiritual angle, while others are used purely as a form of exercise.

Benefits

Virtually everyone can see physical benefits from yoga, and its practice can also give psychological benefits, such as stress reduction and a sense of well-being, and spiritual benefits, such as a feeling of connectedness with God or Spirit, or a feeling of transcendence. Certain poses can be done just about anywhere and a yoga program can go for hours or minutes, depending on one’s schedule.

There are several mechanisms in yoga that have an effect on stress levels, meaning there are multiple ways that yoga can minimize your stress levels.  Studies show that the most effective ways in which yoga targets stress are by lifting your mood (or positive affect), by allowing for increased mindfulness, and by increasing self-compassion.  By simultaneously getting us into better moods, enabling us to be more focused on the present moment, and by encouraging us to give ourselves a break, yoga is a very effective stress reliever.  
  • Shithilikarana vyayama (loosening exercises) - 5 min
  • Suryanamaskara (sun salutation) - 5 min
  • Asana (physical postures) - 15 min.
    • Ardhakatichakrasana (lateral be
    • nd pose)
    • Ardhachakrasana (backward bend pose)
    • Padahastasana (standing forward bend pose)
    • Sarvangasana (shoulder stand pose)
    • Matsyasana (fish pose)
    • Bhujangasana (serpent pose)
    • Padmasana (lotus pose)
    • Savasana (corpse pose).
  • Pranayama (breathing practices) – 10 min
    • Kapalabhati (illuminating forehead breath)
    • Nadisuddhi (alternate nostril breath)
    • Ujjayi (the psychic breath)
    • Bhramari (humming bee breath)
  • Meditation/relaxation – 10 min
    • Mindfulness-based relaxation/yoga nidra (psychic sleep)

Effects on the Body

The following is only a partial list of yoga’s benefits:
  • reduced stress
  • sound sleep
  • reduced cortisol levels
  • improvement of many medical conditions
  • allergy and asthma symptom relief
  • lower blood pressure
  • smoking cessation help
  • lower heart rate
  • spiritual growth
  • sense of well-being
  • reduced anxiety and muscle tension
  • increased strength and flexibility
  • slowed aging process
Yoga’s benefits are so numerous, it gives a high payoff for the amount of effort involved.

1. Fares J, Al Tabosh H, Saadeddin Z, El Mouhayyar C, Aridi H. Stress, burnout and coping strategies in preclinical medical students. N Am J Med Sci. 2016;8:75–81. [PMC free article] [PubMed]
2. Bond AR, Mason HF, Lemaster CM, Shaw SE, Mullin CS, Holick EA, et al. Embodied health: The effects of a mind-body course for medical students. Med Educ Online. 2013;18:1–8. [PMC free article][PubMed]
3. Erogul M, Singer G, McIntyre T, Stefanov DG. Abridged mindfulness intervention to support wellness in first-year medical students. Teach Learn Med. 2014;26:350–6. [PubMed]
4. Warnecke E, Quinn S, Ogden K, Towle N, Nelson MR. A randomised controlled trial of the effects of mindfulness practice on medical student stress levels. Med Educ. 2011;45:381–8. [PubMed]
5. Simard AA, Henry M. Impact of a short yoga intervention on medical students’ health: A pilot study. Med Teach. 2009;31:950–2. [PubMed]
6. Chen Y, Yang X, Wang L, Zhang X. A randomized controlled trial of the effects of brief mindfulness meditation on anxiety symptoms and systolic blood pressure in Chinese nursing students. Nurse Educ Today. 2013;33:1166–72. [PubMed]
7. Shapiro SL, Schwartz GE, Bonner G. Effects of mindfulness-based stress reduction on medical and premedical students. J Behav Med. 1998;21:581–99. [PubMed]
8. Malathi A, Damodaran A. Stress due to exams in medical students – Role of yoga. Indian J Physiol Pharmacol. 1999;43:218–24. [PubMed]
9. Turakitwanakan W, Mekseepralard C, Busarakumtragul P. Effects of mindfulness meditation on serum cortisol of medical students. J Med Assoc Thai. 2013;96(Suppl 1):S90–5. [PubMed]
10. Bansal R, Gupta M, Agarwal B, Sharma S. Impact of short term yoga intervention on mental well being of medical students posted in community medicine: A pilot study. Indian J Community Med. 2013;38:105–8. [PMC free article] [PubMed]
11. Yazdani M, Esmaeilzadeh M, Pahlavanzadeh S, Khaledi F. The effect of laughter yoga on general health among nursing students. Iran J Nurs Midwifery Res. 2014;19:36–40. [PMC free article] [PubMed]
12. Malathi A, Damodaran A, Shah N, Krishnamurthy G, Namjoshi P, Ghodke S. Psychophysiological changes at the time of examination in medical students before and after the practice of yoga and relaxation. Indian J Psychiatry. 1998;40:35–40. [PMC free article] [PubMed]
13. Madanmohan, Thombre DP, Balakumar B, Nambinarayanan TK, Thakur S, Krishnamurthy N, et al. Effect of yoga training on reaction time, respiratory endurance and muscle strength. Indian J Physiol Pharmacol. 1992;36:229–33. [PubMed]
14. Saoji A, Mohanty S, Vinchurkar SA. Effect of a single session of a yogic meditation technique on cognitive performance in medical students: A randomized crossover trial. [Accessed March 25, 2016];J Relig Health. 2016 at http://link.springer.com/article/10.1007%2Fs10943-016-0195-x . [PubMed]
15. Lin SL, Huang CY, Shiu SP, Yeh SH. Effects of yoga on stress, stress adaption, and heart rate variability among mental health professionals - A randomized controlled trial. Worldviews Evid Based Nurs. 2015;12:236–45. [PubMed]
16. Nemati A. The effect of pranayama on test anxiety and test performance. Int J Yoga. 2013;6:55–60.[PMC free article] [PubMed]
17. Christopher JC, Christopher SE, Dunnagan T, Schure M. Teaching self-care through mindfulness practices: The application of yoga, meditation, and qigong to counselor training. J Humanist Psychol. 2006;46:494–509.

Saturday, November 3, 2018

टेंशन मुक्ति की अचूक तरकीब (How to reduce your stress level)


टेंशन मुक्ति की अचूक तरकीब
इन दिनों भाग-दौड़ की जिंदगी में अमूमन लोग कुछ हद तक टेंशन (तनाव) में रहते है। तनाव पैदा होने की कई वजह हो सकती है, जैसे किसी तरह का टकराव, बढ़ती प्रतिस्पर्धा काम करने की समय सीमा धन कमाने की होड़ दुख, नाउम्मीद आदि। ऐसे समय में आप खुद को पहचानिए और अपनी क्षमता के अनुसार काम में लचीला रूख अपनाइए ताकि आप लगातार उत्साहित होते रहे। बहरहाल टेंशन से निजात पाने के लिए सहज तरकीब के जरिये आपको इससे मिलेगी मुक्ति और मानसिक शांति।
1.          सकारात्मक सोचआप नकारात्मकता को उत्सर्ग कर सकारात्मक सोच रखें। यह सोच हमेशा हमें मन मस्तिष्क के अंदर-बाहर किसी भी बात से परेशान होने नहीं देती और दिशा निर्देश दे कर शांति स्तर पर पहुंचती है जबकि नकारात्मक सोच हमारी जिन्दगी को दिग्भ्रमित कर देती है। 
2.          प्राणायाम या व्यायाममन-मस्तिष्क को तरोताजा रखने के लिए प्राणायाम या व्यायाम एक बेहद उपयोगी साधन है। इसके यमित अभ्यास करने से कांतिमय तो होते ही है। साथ ही हम हल्का फुल्का महसूस करते है और अंदर मौजूद ऊर्जा का सदुपयोग कर पाते हैं तथा मानसिक तनाव रहित हो जाते हैं। 
3.          प्रसन्नताहर दर्द की दवा है प्रसन्नता। टेंशन मुक्ति के लिए हास-परिहास को जिंदगी में शामिल कर प्रसन्नचित रहिए। यह आपके क्रोध, चिंता, खिन्नता, निराशा और चिड़चिड़ेपन आदि पर मरहम का काम करता है। 
4.          दिनचर्या का बदलावनित्य एक ही काम करने या एक ही जगह ठहरने से मानव स्वभाव बदलाव चाहता है तो रुचि के अनुसार दिनचर्या का बदलाव करें। इससे अपने बारे में अच्छा महसूस करेंगे और जीवन की एकरसता टूटेगी। 
5.          अपने लिए वक्तभाग दोड़ की जिंदगी में अपने लिए वक्त निकाले। यह आपका हक है जिसके आधार पर आप तय कर सकते हैं कि आपकी मंजिल क्या है? यह आपकी निजी खोज है।इसे कोई छीन नहीं सकता। 
6.          नयी पहलअक्सर अवसर चूक जाने के पश्चात पछतावे के अलावा और कुछ हाथ नहीं लगता इसलिए जो बीत गई सो बात गई, वाला कथन अपनाइए और आगे की सुधि लेते हुए नई पहल करें। 
7.          रचनात्मक कार्यखाली समय मूड का सबसे बड़ा दुश्मन माना गया है। अत: सदैव दिमाग को रचनात्मक कार्यों में लगा देने से मूड खुशनुमा बना रहता है और मानसिक बाधाए दूर हो जाती है। अगर आप उपरोक्त टिप्स पर अमल करें तो निश्चय ही जिंदगी की भागम भाग में सबसे सद्भूत तथा टेंशन मुक्त होकर तरोताजा दिखेंगे।
8.            खुल कर करें मेल : मिलाप अक्सर देखने में आता है कि व्यक्ति काम की अधिकता और व्यस्तता के कारण परिवार और मित्रों के साथ के लिये भी वक्त नहीं निकाल पाता। होना यह चाहिये कि प्रतिदिन, चाहे आधा घंटा ही सही पर अपने प्रियजनों के लिये वक्त अवश्य निकालना चाहिये। अपनों के साथ अपने सुख-दु: बांटने से तनाव को काफी हद तक कम किया जा सकता है।
9.          संगीत में स्नान : संगीत को सिर्फ मनोरंजन मानना बहुत बड़ी भूल है। संगीत सिर्फ कला ही नहीं वह ध्यान, चिकित्सा पद्धति और आध्यात्मिक साधना सब कुछ एक साथ है। प्रतिदिन 20 से 30 मिनट तक कोई अच्चा संगीत अवश्य सुने। संगीत ऐसा हो जो आपके दिमाग से विचारों की उथल-पुथल को शांत करके आपको गहरे मौन और ध्यान की गहराइयों में पहुंचा सके।
10.       मेडिटेशन : अगर कहा जाए कि संसार की अधिकांश समस्याओं को सिर्फ  ध्यान के बल पर ठीक किया जा सकता है तो इसमें कोई भी अतिशयोक्ति नहीं है। नियमित ध्यान के अभ्यास से व्यक्ति में इंसानियत और मानवीयता के सद्गुणों का जन्म होता है। ध्यान से मानसिक तनाव को दूर करना सबसे अधिक कारगर और अचूक उपाय है।

योग की परिभाषाये एवं स्वरुप ( Definition of Yoga )

योग की परिभाषाये एवं स्वरुप योग शब्द 'युज' धातु से बना है जिसका अर्थ जोड़ना अर्थात जो युक्त करे मिलावे उसे योग कहते है। इ...